डॉ हरीश रावत एक ऐसा शख्स है जिसने भारत में नहीं पूरी दुनिया में बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड

डॉ हरीश रावत एक ऐसा शख्स है जिसने भारत में नहीं पूरी दुनिया में बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड 

डॉ हरीश रावत






























x

आपने बहुत सारे लोगों के नाम गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में पढ़े होंगे ! लेकिन क्या आपने एक ऐसा नाम पड़ा है जिसने हंसते-हंसते बनाया गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड जी हां हम बात कर रहे हैं ! हरीश रावत डॉ हरीश रावत फाउंडेशन लाफ्टर योगा गुरु की !

हरीश रावत सर पूरी दुनिया में लोगों को खुश रखना चाहते हैं ! लोगों को हंसाते हैं हरीश रावत सर ने वल्र्ड रिकॉर्ड में भारत का नाम लिखवाया है ! उन्होंने 36 घंटे 2 मिनट तक हंस कर गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है ! 


हरीश रावत सर से पहले यह नाम इटली के दो भाइयों के नाम था जो कि उन्होंने 24 घंटे 13 मिनट हंसे थे ! लेकिन भारत का नाम रोशन करने वाले डॉक्टर हरीश रावत सर 36 घंटे 2 मिनट तक हंसे इनकी टीम में 6 लोग थे ! 


इनके नाम बैनर्जी, दीक्षा सचान, मधु गोयल और रोहन मिश्रा व आकाश पांडेय, डॉक्टर अंकुर दीवान हैं !

इन्होंने इनके साथ हंसने के competition में हिस्सा लिया इसमें एक शर्त रखी गई कि जो आखिर तक हंसता रहेगा उसका नाम गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में लिखा जाएगा ! तो 4 घंटे तक कुछ लोग निरंतर हंसते रहें लेकिन उसके बाद टिक न सके!


और फिर कभी ज्यादा हंसते तो कभी कम लेकिन हरीश रावत सर निरंतर ही लगातार हंसते रहें 36 घंटे 2 मिनट तक हंसने का वर्ल्ड रिकॉर्ड इन्होंने बनाया !


डॉक्टर हरीश रावत सर का मेन मकसद भी हमेशा यही रहा है ! कि वह ज्यादा से ज्यादा लोगों को हंसा सके हरीश रावत सर 2015 से यह काम कर रहे हैं ! जिसमें लोगों को हंसना सिखाते हैं ! और योगा हंसाने वाला कराते हैं !


हरीश रावत सर कॉलेज में जेल में अनेक मीटिंग में लोगों के पास जाकर हरीश रावत सर अलग-अलग स्थान पर जाकर लोगों को हंसने का महत्व बताते हैं इसलिए इन्हें योगा गुरु भी कहा जाता है !

लाफ्टर योगा फाउंडेशन के संस्थापक डॉ हरीश रावत गाजियाबाद में अपनी पत्नी डॉ रीना और अपने बेटे के साथ रहते हैं इनके बेटे का नाम रुद्र है !


हरीश रावत सर का गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड के अलावा लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी नाम दर्ज है !

WHO (World Health Organization) विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक भारत में 70% लोग हंसना भूल चुके हैं ये लोग कभी हंसते नहीं हैं ! और हंसी के कारण से हमारे भारत में बीमारी बहुत ज्यादा है !


लोग बीमार बहुत होते हैं इसीलिए हरीश रावत सर लोगों को डिप्रेशन से बाहर निकालने का काम करते हैं ! हरीश रावत सर ने एक मीटिंग में बताया है कि अगर लोग हंसते हैं तो वह लोग कभी बीमार नहीं होते हैं !


इनके पास से बीमारी दूर भागती है क्योंकि हंसने से हमारे शरीर में एंडोर्फिन हार्मोन रिलीज होते हैं ! और हंसने से पॉजिटिव माइंड सेट बनता है!


हरीश रावत सर के जीवन में एक अनहोनी हुई जिसके कारण हरीश रावत सर का पूरा जीवन ही बदल गया है !


जब हरीश रावत सर कॉलेज के टाइम में थे तो वह स्मोकिंग ड्रिंकिंग करने लगे थे गलत संगत में पड़ गए जिसके कारण यह डिप्रेशन में चले गए हंसना छोड़ दिया तो इन्होंने एक दिन सोचा कि यह सब बदलना चाहिए !


तो लोगों से सलाह लेना शुरू किया तो इन्हीं लोगों ने सलाह दी कि आप हंसने वाला योगा का कोर्स कीजिए ! इससे आपको जरूर फायदा होगा तो इन्होंने हंसने का योगा किया जो करने से इनका जीवन पूरी तरह से बदल गया !


इसके बाद जब हरीश रावत सर जॉब करते थे तो उनके एक दोस्त डिप्रेशन में चला गया और इस कारण से उसने आत्महत्या कर ली जब यह केस हरीश रावत सर को पता चली तो उन्होंने ठान लिया !


कि अब मुझे कुछ लोगों के लिए करना चाहिए लोगों को डिप्रेशन से बाहर निकालना चाहिए ताकि और लोग आत्महत्या ना करें ! फिर उन्होंने लोगों को हंसाना शुरू किया डिप्रेशन से बाहर निकालना शुरू किया !


क्योंकि हमारे भारत में भारत की जितनी आबादी है इसमें से आधी आबादी के लोग टेंशन में रहते हैं !

और यह लोग हंसते नहीं है इसी कारण से यह लोग अंदर से खोखला होने लगते हैं बीमार हो जाते हैं वह बहुत सारे लोग जिंदगी से परेशान होकर आत्महत्या कर लेते हैं ! 


इस कारण से हमेशा हरीश रावत सर ने लोगों को हंसाना शुरू किया ! और यह काम करते-करते हरीश रावत इंटरनेशनल फाउंडर योगा गुरु बन गए !


यह काम हरीश रावत सर ने 2015 में शुरू किया था और वह हजारों लोगों को ठीक कर चुके हैं ! आज के समय में डॉ हरीश रावत सर लोगों को हंसना सिखाते हैं ! हंसाने वाले गुरु हरीश रावत सर का कहना है !


की व्यक्ति को हमेशा हंसना चाहिए चाहे सिर्फ नकली हंसे या असली हंसे क्योंकि हमारे माइंड को यह नहीं पता है ! कि हम असली में हंस रहे हैं ! या नकली में हंस रहे हैं जब हम असली में हंसते हैं ! या नकली में हंसते हैं तो हमारी कुछ दिनों के बाद हंसने की आदत बन जाती है !


और फिर हमारे दिमाग में नहीं वाले ख्याल नहीं आते हैं ! और हमारा माइंड पॉजिटिव काम करने लगता है इसका सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि व्यक्ति जल्दी बीमार नहीं होता है ! हमेशा खुश रहने लगता है !


यह बात तो World Health Organization ने भी मानी है कि दुनिया में जितनी आबादी है इसमें से आधी आबादी डिप्रेशन की खतरनाक बीमारी से लड़ रही हैं फिर जो लोग डिप्रेशन के मरीज होते हैं ! 

वह डॉक्टर के पास इलाज कराने ने के लिए जाते हैं फिर डॉक्टर खाने की अंग्रेजी दवा देता है जिससे डिप्रेशन का इलाज ना होकर बल्कि और नई बीमारियां जन्म ले लेती है ! 


तो डिप्रेशन जैसी बीमारी को ठीक करने के लिए इस दुनिया को हरीश रावत जैसी शख्सियत की आवश्यकता है ! हमारे भारत के लोगों को यह जानकर खुश होना चाहिए कि हमारे पास हरीश रावत जैसी शख्सियत है !


जो लोगों को खुश करने का काम करती है हमारे भारत को तनाव मुक्त कराने के लिए डॉक्टर हरीश रावत सर जी जान से मेहनत कर रहे हैं हरीश रावत लाफ्टर योगा से पूरी दुनिया को खुश और सेहतमंद बनाना चाहते हैं !


हरीश रावत सर का कहना है कि हंसी से पूरी दुनिया का दिल जीता जा सकता है ! जबसे कोरोनावायरस आया है तो लोग हंसना तो बहुत दूर जीना भी भूल गए !


इसलिए डॉक्टर हरीश रावत लाफ्टर गुरु जैसे लोगों की हमारे हिंदुस्तान को आवश्यकता है !


Leave a comment